Home तीर-ए-नज़र पाक आतंकियों के पक्ष में खुलेआम इन नेताओं ने नई दिल्ली में की प्रेस कांफ्रेंस

पाक आतंकियों के पक्ष में खुलेआम इन नेताओं ने नई दिल्ली में की प्रेस कांफ्रेंस

5 second read
0
0
675

dev@amarbharti.com

डेस्क। बड़ी खबर पाकिस्तान से आ रही है कि पाक के विदेश मंत्री ने यह स्वीकार कर लिया है कि आतंक को बढ़ावा देने के लिए उनके देश ने काफी धन खर्च किया है। हालांकि पाक विदेश मंत्री ने यह भी कहा कि उन्हें अब भारत की कूटनीतिक विजय को स्वीकार कर लेना चाहिए।

इस बीच भारत में रह रहे पाकिस्तान समर्थक नेताओं और बुद्धिजीवियों ने इसे प्रधानमंत्री मोदी की राजनीतिक साजिश बताया है और कहा है कि भारत को अपने पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को बदनाम करने का कोई हक नहीं है। 

आनन-फानन में नई दिल्ली स्थित अपने आवास पर बुलाये गये संवाददाता सम्मेलन में टनिशंकर भैय्यर ने कहा कि पाकिस्तान हमारा पड़ोसी मुल्क है। उसके योगदान को हमें नहीं भुलाना चाहिए। अगर पाकिस्तान नहीं होता तो भारत इतना शक्तिशाली नहीं होता।  

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि अगर बार-बार हमारे देश में आतंकी घटनाएं नहीं होतीं तो क्या हम चौकन्ने रह पाते। सही मायने में पाकिस्तान हमें जगाने का कार्य करता है। एक सवाल के जवाब में टनिशंकर भैय्यर ने कहा कि हम पाकिस्तान के साथ मिलकर मोदी को उखाड़ फेकेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि वे कई पाकिस्तानी नेताओं और आतंकियों के सम्पर्क में हैं और जल्द ही वे पाकिस्तान का दौरा करेंगे। 

पाक के विदेश मंत्री की आतंक में संलिप्तता की स्वीकारोक्ति के बाद एक और युवा नेता नन्हैया कुमार ने अपने समर्थकों को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश की जेलों में बंद सभी आतंकियों को तुरंत रिहा कर देना चाहिए ताकि पड़ोसी देश से भाईचारा कायम रह सके।

उन्होंने मोदी की आलोचना करते हुए कहा कि मोदी दुनिया भर में घूम-घूमकर पाकिस्तान की बुराई करने की जगह अपने उन सैनिकों की बंदूकें छीन लीजिए जो बुरहान जैसे मासूम आतंकियों को मार गिराते हैं। नन्हैया ने कहा कि यह बेहद दुःखद है कि एके-47 रखने वाले मासूम युवाओं को आतंकवादी बताया जा रहा है। 

पाकिस्तान के पक्ष में एक और वरिष्ठ नेता डिग्डिगयनाथ ने आवाज बुलंद की है। उन्होंने मोदी से कहा है कि अगर सच में उनका सीना 56 इंच का है तो श्री हाफिज सईद जी को पूरे राजकीय सम्मान के साथ भारत बुलाएं और उनको देश का भ्रमण करायें। डिग्डिगयनाथ ने कहा कि अगर हाफिज सईद व्यस्त हों तो सैयद सलाहुद्दीन साहब को भारत बुलाया जाये ताकि दोनों देशों के बीच सम्बन्धों की कोंपलें फूट सकें।

पत्रकारों ने पीएमओ में राज्यमंत्री जितेन्द्र सिंह से इस पर प्रतिक्रिया जाननी चाही तो उन्होंने इस साफ-साफ तो कुछ नहीं कहा लेकिन इतना जरूर कहा कि हर मर्ज की दवा हमारे पास है।

Load More Related Articles
Load More By news_admin
Load More In तीर-ए-नज़र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

जम्मू-कश्मीर में एसएसबी कैंप पर बड़ा हमला, कई घायल

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में एसएसबी कैंप एक बड़ा आतंकी हमला हुआ है। जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर स्…