Home जीवन शैली जानें अवसाद का कारण, दोषपूर्ण प्रतिरक्षा तंत्र के कारण होता है अवसाद

जानें अवसाद का कारण, दोषपूर्ण प्रतिरक्षा तंत्र के कारण होता है अवसाद

4 second read
0
0
233

नई दिल्ली। अवसाद, एक दोषपूर्ण प्रतिरक्षा प्रणाली की वजह से होने वाली एक शारीरिक बीमारी है जिसका इलाज सूजन-जलनरोधी दवाओं के इस्तेमाल से किया जा सकता है। अवसाद के संबंधित जानकारी वैज्ञानिकों के एक अध्ययन में सामने आई है। इस समय अवसाद के लिए किए जाने वाले इलाज में सेरोटोनिन और मस्तिष्क में उल्लास को बढ़ावा देने वाले अन्य रसायनों को बनाए रखने पर जोर दिया जाता है।

प्रद्युमन मर्डर केस: सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और हरियाणा सरकार को जारी किया नोटिस

हालांकि, ब्रिटेन में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने पाया कि अतिसक्रिय प्रतिरक्षा प्रणाली पूरे शरीर में जलन-सूजन को बढ़ाती है जिससे निराशा, दु:ख और थकान में बढ़ोतरी होती है। यह रोग या बीमारी के बाद प्रतिरक्षा प्रणाली की सक्रियता कम नहीं होने का लक्षण हो सकता है। यही वजह है कि फ्लू जैसे वायरस से पीड़ित होने के बाद आमतौर पर लोगों को खराब मूड का अनुभव होता है।

दंड के तौर पर छात्रा को स्कूल में दी बेहद अमानवीय सजा

हालिया अध्ययनों और क्लिनिकल परीक्षणों में पाया गया कि सूजन-जलन के उपचार से अवसाद में कमी आती है। क्रैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में प्रोफेसर एड बुलमोरे का कहना है कि जलन-सूजन से अवसाद हो सकता है। बुलमोरे के हवाले से द टेलीग्राफ ने कहा, सूजन-जलन और अवसाद के लक्षणों के बीच एक गहरा संबंध है। कैम्ब्रिज और वेलकम ट्रस्ट के वैज्ञानिक अगले वर्ष परीक्षण आरंभ कर सकते हैं ताकि यह पता लगाया जा सके कि सूजन-जलनरोधी दवाओं से अवसाद खत्म हो सकता है या नहीं।

Load More Related Articles
Load More By news_admin
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

वाहन चलाते समय इन बातों का ध्यान नहीं तो हर हाल में कटेगा चालान

लखनऊ। नवंबर माह को यातायात माह के रूप में मनाया जाता है। जिससे ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारा …