Home देश-दुनिया पत्रकारों पर हमला करनेवालों की अब खैर नहीं, महाराष्ट्र सरकार ने दी हरी झंडी

पत्रकारों पर हमला करनेवालों की अब खैर नहीं, महाराष्ट्र सरकार ने दी हरी झंडी

0 second read
1
0
340

पत्रकार अथवा मीडिया संस्थान पर किया गया हमला होगा अब गैर जमानती अपराध। पुलिस उपाधीक्षक या उससे ऊपर के रैंक के अधिकारी ही होगें जांच अधिकारी।

नई दिल्ली। पत्रकारों पर हो रहे हमलों के खिलाफ उठ रही आवाज को आखिरकार न्याय मिल ही गया। पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग को फिलहाल अभी एक ही राज्य महाराष्ट्र ने हरी झण्डी दी है, लेकिन जल्द ही देशभर में चौथे स्तंभ के प्रहरी यानि पत्रकारों पर हमला करने वालो के खिलाफ कानून बनेगा। देशभर में उठ रही मांग पर महाराष्ट्र सरकार द्वारा विधेयक पास कराये जाने से महाराष्ट्र राज्य पहला राज्य बन गया है।

पत्रकारों के हित में सबसे पहले कदम उठाने पर आईरा सहित तमाम पत्रकार संघों ने पत्रकार सुरक्षा कानून बनाए जाने को पत्रकारों की जीत बताते हुए महाराष्ट्र सरकार, उसके मंत्रिमंडल के सदस्य, विधानसभा के समस्त सदस्यों का आभार व्यक्त किया है। देश के पत्रकार संगठनों ने पत्रकार सुरक्षा कानून बनाए जाने को पत्रकार सुरक्षा के लिए मील का पत्थर बताया है। स्थानीय पत्रकारों ने भी महाराष्ट्र सरकार को इस एतिहासिक कदम के लिए धन्यवाद दिया है।

बच्चों को शिक्षा दो, मौत नहीं?

पत्रकारों पर हमला करने वालो की अब खैर नहीं

राज्य सरकार के इस फैसले के बाद मीडियाकर्मी पर हमला करना गैर-जमानती होगा। विधेयक को बजट सत्र के अंतिम दिन बिना किसी चर्चा के दोनों सदनों में मंजूर कर लिया गया। विधेयक में इस कानून का दुरुपयोग करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई का प्रावधान किया गया है। विधेयक के मुताबिक, हमला करने वाले को तीन साल की सजा अथवा 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है। हमले में हुए नुकसान या फिर पत्रकारों के इलाज का खर्च भी हमलावर से वूसल किया जाएगा। साथ ही कानून में प्रावधान किया गया है कि अगर पत्रकार इसका दुरुपयोग करता है तो उसपर भी कार्रवाई होगी।

यह कानून ड्यूटी पर मौजूद पत्रकारों पर किसी तरह की हिंसा करने, पत्रकार अथवा मीडिया संस्थान की संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने पर यह कानून लागू होगा। इसके तहत दोषी को 3 साल की सजा और 50 हजार रुपए का जुर्माना अथवा दोनों का प्रावधान किया गया है। पत्रकारों मीडिया संस्थानों के साथ स्थायी तौर पर और कांट्रैक्ट पर काम करने वाले पत्रकारों पर हमला करना गैरजमानती अपराध माना जाएगा।

ओहदे की हनक एक महिला के सिर पर इस कदर सवार हो गर्इ कि पुलिसकर्मियों के साथ खुलेआम की मारपीट, देखें वीडियो

हमला करने वाले को पीड़ित के इलाज का खर्च और मुआवजा भी अदा करना होगा। मेडिकल खर्च व मुआवजा न देने की सूरत में इस रकम को भूमि राजस्व बकाया मान कर वसूल किया जाएगा। इस तरह के मामलों की जांच पुलिस उपाधीक्षक और उसके ऊपर स्तर का अधिकारी जांच करेगा।

Load More Related Articles
Load More By news_admin
Load More In देश-दुनिया

One Comment

  1. ramesh rajpoot

    September 13, 2017 at 2:56 pm

    जांच मे देरी हो रही है।हमे मिल के आवाज उठानी चाहिए

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

वाहन चलाते समय इन बातों का ध्यान नहीं तो हर हाल में कटेगा चालान

लखनऊ। नवंबर माह को यातायात माह के रूप में मनाया जाता है। जिससे ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारा …