कविता विशेष: ‘ख़ामोश हूं’

6 Beautiful Spots To Watch The Sunrise In Pondicherry | So Pondicherry

ख़ामोश हूं मरा नहीं हूं
जाग रहा हूं सोया नही हूं

रात हूं दिन नही हूं
ठहरा हूं रुका नहीं हूं
पतझड़ हूं सूखा पेड़ नहीं हूं
उम्मीद हूं टूटा नहीं हूं
ख़ामोश हूं मरा नहीं हूं।
जाग रहा हूं सोया नहीं हूं।

पानी में पत्थर फेंको तो लहरे दूर तक जाती है
दर्द को जितना छेड़ो आवाज अंदर तक जाती है
पिरो कर दर्द की चादर को
हर रात ओढ़ा करता हूं
नींद भले ही ना आए
पर हर रात में सोया करता हूं
उम्मीद का दामन छूटे नहीं
इस कोशिश में लगा रहता हूं

ख़ामोश हूं मरा नहीं हूं
जाग रहा हूं सोया नही हूं।

तोड़ दूं सारी बंदिशे
कर लूंगा पूरी हसरतें
सांस अभी रुकी नहीं है
जीत अभी हुई नहीं है
शौक तो सब रखते हैं जीने का
बस मैं शौक रखता हूं नया इतिहास रचने का

ख़ामोश हूं मरा नहीं हूं
जाग रहा हूं सोया नहीं हूं।…….

             ---- प्रदीप भास्कर-----

Leave a Reply

Your email address will not be published.